SHARAB CHIZ HI AISI HAI NA CHHODI JAYE

Posted by

Sharab chiz hi aisi hai na chhodi jaye

Ye mere yaar ke jaisi hai na chhodi jaye…

Har ek shey ko jahaan mein badalte dekha hai

Magar ye waise ki waisi hai na chhodi jaye

Ye mere yaar ki jaisi hai na chhodi jaye

Sharab chiz hi aisi hai na chhodi jaye…

Hamesha saath rahi intezar ki uljhan

Ye teri julfon ki jaisi hai na chhodi jaye

Ye mere yaar ki jaisi hai na chhodi jaye

Sharab chiz hi aisi hai na chhodi jaye…

Kahi bhi jayein magar laut kar yahin aaye

Gali ye yaar ki kaisi hai na chhodi jaye

Ye mere yaar ki jaisi hai na chhodi jaye

Sharab chiz hi aisi hai na chhodi jaye…

शराब चीज़ ही ऐसी है ना छोड़ी जाए

ये मेरे यार की जैसी है ना छोड़ी जाए…

हर एक शय को जहाँ में बदलते देखा है

मगर ये वैसे की वैसी है ना छोड़ी जाए

ये मेरे यार की जैसी है ना छोड़ी जाए

शराब चीज़ ही ऐसी है ना छोड़ी जाए…

हमेशा साथ रही इंतेज़ार की उलझन

ये तेरी ज़ुल्फ़ों के जैसी है ना छोड़ी जाए

ये मेरे यार की जैसी है ना छोड़ी जाए

शराब चीज़ ही ऐसी है ना छोड़ी जाए…

कहीं भी जाएँ मगर लौट कर यहीं आए

गली ये यार की कैसी है ना छोड़ी जाए

ये मेरे यार की जैसी है ना छोड़ी जाए

शराब चीज़ ही ऐसी है ना छोड़ी जाए…

Leave a Reply