MUJHE APNI BASTI KI SHARM HAI

Posted by

Mujhe apni basti ki sharm hai

Teri Rifaton ka khayal hai

Magar apne dil ko mai kya karun

Ise phir bhi shauk-e-wisaal hai

Unhe zid hai arz-e-wisaal se

Mujhe shauk-e-arz-e-wisaal hai

Wahi ab bhi unka jawaab hai

Wahi ab bhi mera sawal hai

Teri yaad me hua jab se ghum

Tere gumsuda ka ye haal hai

Ke na dur hai na kareeb hai

Na firaq hai na wisaal hai

Attaullah Khan

मुझे अपनी बस्ती की शर्म है

तेरी रिफ़अतो का ख़याल है

मगर अपने दिल को मैं क्या करूँ

इसे फिर फिर शौक़-ए-विसाल है

उन्हें ज़िद है अर्ज़-ए-विसाल से

मुझे शौक़-ए-अर्ज़-ए-विसाल है

वही अब भी उनका जवाब है

वही अब भी मेरा सवाल है

तेरी याद में हुआ जब से ग़म

तेरे गुमशुदा का ये हाल है

के ना दूर है ना क़रीब है

ना फ़िराक़ है ना विसाल है

अत्ताउल्लाह खान

Leave a Reply