MUJH KO TASLEEM HAI TUNE MOHABBAT

Posted by

Mujh ko tasleem hai tune mohabbat mujhse ki hogi,

Zamane ne magar izhar ki mohlat na di hogi,

Mai apne aap ko sulga raha hun is tavaqqo par,

Kabhi to aag bhadkegi; kabhi to roshni hogi

Attaullah Khan

मुझ को तसलीम है तूने मोहब्बत मुझसे की होगी

ज़माने ने मगर इजहार की मोहलत ना दी होगी

मैं अपने आप को सुलगा रहा हूँ इस तवक्को पर

कभी तो आग भड़केगी, कभी तो रोशनी होगी

अत्ताउल्लाह खान

Leave a Reply