YAAD REHTA HAI KISE GUZRE ZAMANE

Posted by

“Yaad rehta hai kise guzre zamane ka chalan,

Sard pad jaati hai chahat haar jaati hai lagan,

Ab mohabbat bhi hai kya ik tijarat ke siwa,

Ham bhi nadaan they jo odhe beeti yaadon ka kafan,

Warna jeene ke liye sab kuch bhula dete hain log,

Ek chehre pe kai chehre laga lete hain log”

“याद रहता है किसे गुज़रे ज़माने का चलन,

सर्द पड़ जाती है चाहत हार जाती है लगन,

अब मोहब्बत भी है क्या इक तिजारत के सिवा,

हम भी नादाँ थे जो ओढ़े बीती यादों का कफ़न,

वरना जीने के लिए सब कुछ भुला देते हैं लोग,

एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेते हैं लोग”

Leave a Reply