JHUKE TO LAL-O-GUL HAI HIZAAB SI ANKHEIN

Posted by

“Jhuke to lal-o-gul hai hizaab si ankhein,

Uthe to aag laga dein sharab si ankhein,

Ye mukhtasar meri barbadiyon ka kissa hai,

Tabah kar gayi khana-kharab si ankhein”

“झुके तो लाल-ओ-गुल है हिजाब सी आँखें,

उठे तो आग लगा दें शराब सी आँखें,

ये मुख़्तसर मेरी बर्बादियों का क़िस्सा है,

तबाह कर गयी खाना-ख़राब सी आँखें”

Leave a Reply