MAI KYA KAHUN KE MUJHE SABR

Posted by

“Mai kya kahun ke mujhe sabr kyun nahin aata,

Mai kya karun ke tujhe dekhne ki aadat hai,

Ye khud-aziyati kab tak ‘Faraz’,

Tu bhi usey na yaad kar ki jise bhulne ki aadat hai”

khud-azziyati-> self torture

-Ahmad Faraz

“मैं क्या कहूँ के मुझे सब्र क्यूँ नहीं आता,

मैं क्या करूँ के तुझे देखने की आदत है,

ये खुद-अज़ियति कब तक ‘फ़राज़’,

तू भी उसे ना याद कर कि जिसे भूलने की आदत है”

-अहमद फ़राज़

Leave a Reply