UTH KAR TO AA GAE HAI TERI BAZM

Posted by

“Uth kar to aa gaye hai teri bazm se magar,

Kuch dil hi janta hai ke kis dil se aae hain”

-Faiz Ahmad Faiz

“उठ कर तो आ गए है तेरी बज़्म से मगर,

कुछ दिल ही जानता है के किस दिल से आए हैं”

-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply