KHAMOSH ZINDAGI JO BASAR KAR RAHEIN HAIN

Posted by

“Khamosh zindagi jo basar kar rahein hain ham,

Gehre samundaron mein safar kar rahein hain ham”

– Rais Amrohvi

“ख़ामोश ज़िंदगी जो बसर कर रहें हैं हम,

गहरे समुंदरों में सफ़र कर रहें हैं हम”

– राइस अमृहवी

Leave a Reply