AADAM KA JISM JAB KI ANASIR SE MIL BANA

Posted by

“Aadam ka jism jab ki anasir se mil bana,

Kuch aag bach rahi thi so ashiq ka dil bana”

– Sauda Mohammad Rafi

“आदम का जिस्म जब की अनासिर से मिल बना ,

कुछ आग बच रही थी सो आशिक़ का दिल बना”

– सौदा मोहम्मद रफ़ी

Leave a Reply